Sunday, 29 April 2018

‘मन की बात’ प्रसारण तिथि : 29.04.2018


मेरे प्यारे देशवासियो ! नमस्कार  हाल ही में 4 अप्रैल से 15 अप्रैल तक ऑस्ट्रेलिया में 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आयोजन हुआ | भारत सहित दुनिया के 71 देशों ने इसमें हिस्सा लिया | जब इतना बड़ा आयोजन हो, विश्व भर से आये हज़ारों खिलाड़ी इसमें भाग ले रहे हों, कल्पना कर सकतें हैं कैसा माहौल होगा ? जोश, जज़्बा, उत्साह, आशाएँ, आकांक्षाएँ, कुछ कर दिखाने का संकल्प - जब इस तरह का माहौल हो तो कौन इससे अपने आपको अलग रख सकता है | ये एक ऐसा समय था जब देश भर में लोग रोज़ सोचते थे कि आज कौन-कौन से खिलाड़ी perform करेंगे | भारत का प्रदर्शन कैसा रहेगा, हम कितने medal जीतेंगे और बहुत स्वाभाविक भी था | हमारे खिलाडियों ने भी देशवासियों की उम्मीदों पर खरा उतरते हुए बेहतरीन प्रदर्शन किया और एक-के-बाद एक medal जीतते ही चले गए | चाहे shooting हो, wrestling हो, weightlifting हो, table tennis हो या badminton; हो भारत ने record  प्रदर्शन किया | 26 Gold, 20 Silver, 20 Bronze - भारत ने क़रीब-क़रीब कुल 66 पदक जीते | हर भारतीय को ये सफ़लता गर्व दिलाती है | पदक जीतना खिलाड़ियों के लिए गर्व और खुशी की बात होती ही है | ये पूरे देश के लिए, सभी देशवासियों के लिए अत्यंत गौरव का पर्व होता है | मैच समाप्त होने के बाद जब पदक के साथ भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए athlete वहाँ पदक के साथ खड़े होते हैं, तिरंगा झंडा लपेटे होते हैं, राष्ट्रगान की धुन बजती है और वो जो भाव होता है, संतोष और खुशी का, गौरव का, मान-सम्मान का अपने आप में कुछ ख़ास होता है, विशेष होता है | तन-मन को झकझोरने वाला होता है | उमंग और उर्मि से भरा हुआ होता है | हम सब एक भाव से भर जाते हैं | शायद उस भावों को व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द भी कम पड़ जाएँगे | लेकिन मैंने इन खिलाड़ियों से जो सुना, मैं आपको सुनाना चाहता हूँ | मुझे तो गर्व होता है, आपको भी गर्व होगा |
#
मैं मनिका बत्रा जो Commonwealth में चार medal लायी हूँ | दो Gold, एक  Silver,  एक  Bronze | ‘मन की बात’ programme सुनने वालों को मैं बताना चाहती हूँ कि मैं बहुत खुश हूँ क्योंकि पहली बार India में  table tennis इतना popular हो रहा है | हाँ मैंने अपना best table tennis खेला होगा |  पूरे life का best table tennis खेला होगा | जो उससे पहले मैंने practice करी है उसके बारे में मैं बताऊँगी कि मैंने बहुत, अपने coach संदीप sir के साथ practice करी है | Commonwealth से पहले जो हमारे camps थे Portugal में, हमें tournaments भेजा government ने और मैं thank you government को करती हूँ क्योंकि उन्होंने इतने सारे international exposure दिए हमें | Young generation को बस एक message दूंगी कभी give up मत करो | explore yourself.
#
मैं पी गुरुराज ‘मन की बात’ programme सुनने वालों को ये बताना चाहता हूँ | 2018 commonwealth game मेरा ये medal जीतने का सपना था | मैं पहली बार पहले commonwealth games में पहले India को medal दे के मैं बहुत खुश हूँ | ये medal मेरा गाँव कुन्दापुरा (kundapur)  और मेरा state Karnataka और मेरा country को ये dedicate करता हूँ |  
  # मीराबाई चानू
मैंने 21st Commonwealth Games में India के लिए first Gold medal जीता था | तो इसी में मुझे बहुत खुशी हुआ | मेरी एक dream थी India के लिए और Manipur के लिए एक अच्छा वाला players बनने के लिए, तो मैंने सारी movie में देखती है |  जैसे कि Manipur का मेरी दीदी और वो सब कुछ देखने के बाद मुझे भी ऐसे सोचा था कि India के लिए Manipur के लिए अच्छा वाला player बनना चाहती हूँ | ये मेरा successful होने के कारण मेरा discipline भी है और sincerity, dedication and a hard work .      
  Commonwealth Games में भारत का प्रदर्शन बेहतरीन तो था ही, साथ ही यह विशेष भी था | विशेष इसलिए कि इस बार कई चीज़ें थी, जो पहली बार हुई | क्या आप जानते हैं कि इस बार Commonwealth Games में भारत की तरफ़ से जितने wrestlers थे, सब के सब medal जीत के आये हैं | मनिका बत्रा ने जितने भी event भी compete किया - सभी में medal जीता | वह पहली भारतीय महिला है, जिन्होंने individual table tennis में भारत को Gold  दिलाया है | भारत को सबसे ज़्यादा medal shooting में मिले | 15 वर्षीय भारतीय shooter अनीश भानवाला Commonwealth Games में भारत की तरफ़ से Gold medal जीतने वाले youngest खिलाड़ी बने | सचिन चौधरी Commonwealth Games में medal जीतने के लिए एकमात्र भारतीय Para Power-lifter हैं|  इस बार के games विशेष इसलिए भी थे कि अधिकतर medalist महिला athlete थीं | Squash हो, boxing हो,  weightlifting हो, shooting हो – महिला खिलाड़ियों ने कमाल करके दिखाया | Badminton में तो final मुकाबला भारत की ही दो खिलाड़ियों साइना नेहवाल और पी.वी. सिन्धु के बीच हुआ | सभी उत्साहित थे कि मुकाबला तो है लेकिन दोनों medal भारत को ही मिलेंगे - पूरे देश ने देखा | मुझे भी देख करके बहुत अच्छा लगा | Games  में भाग लेने वाले athletes, देश के अलग-अलग भागों से, छोटे-छोटे शहरों से आये हैं | अनेक बाधाओं, परेशानियों को पार करके यहाँ तक पहुँचे हैं और आज उन्होंने जो मुक़ाम हासिल किया है, वे जिन लक्ष्यों तक पहुँचे हैं, उनकी इस जीवन-यात्रा में चाहे उनके माता-पिता हों, उनके guardian हो, coach हो, support staff हो, स्कूल हो, स्कूल के शिक्षक हों, स्कूल का वातावरण हो - सभी का योगदान है | उनके दोस्तों का भी योगदान है, जिन्होंने हर परिस्थिति में उनका हौंसला बुलन्द रखा | मैं उन खिलाड़ियों के साथ-साथ उन सबको भी ढ़ेरों बधाइयाँ देता हूँ, शुभकामनाएँ देता हूँ |

पिछले महीने ‘मन की बात’ के दौरान मैंने देशवासियों से ख़ास-करके हमारे युवकों से fit India का आह्वान किया था  और मैंने हर किसी को निमंत्रण दिया था आइये! fit India से जुड़िये, fit India को lead कीजिये | और मुझे बहुत खुशी हुई कि लोग बड़े उत्साह के साथ इसके साथ जुड़ रहे हैं | बहुत सारे लोगों ने इसके लिए अपना support दिखाते हुए मुझे लिखा है, पत्र भेजे हैं, social media पर अपना fitness मंत्र – fit India stories भी share की हैं |
एक सज्जन श्रीमान् शशिकान्त भोंसले ने swimming pool की अपनी एक तस्वीर share करते हुए लिखा है -
My weapon is my body, my element is water, My world is swimming.”
रूमा देवनाथ लिखती हैं – “Morning walk से मैं ख़ुद को happy और healthy महसूस करती हूँ | और वो आगे कहती हैं - “For me – fitness comes with a smiles and we should smile, when we are happy.”
देवनाथ जी इसमें कोई सन्देह नहीं है कि happiness ही fitness है|
धवल प्रजापति ने trekking की अपनी तस्वीर साझा करते हुए लिखा है - ‘मेरे लिए travelling और trekking ही fit India है’ | यह देख करके काफ़ी अच्छा लगा कि कई जानी-मानी हस्तियाँ भी बड़े रोचक ढ़ंग से fit India के लिए हमारे युवाओं को प्रेरित कर रही हैं | सिने-कलाकार अक्षय कुमार ने twitter पर एक video साझा किया है | मैंने भी उसे देखा है और आप सब भी ज़रूर देखेंगे; इसमें वो wooden beads के साथ  exercise करते हुए नज़र आ रहे हैं  और उन्होंने कहा है कि ये exercise पीठ और पेट की मांसपेशियों के लिए काफ़ी लाभदायक है | एक और उनका video भी प्रचलित हो गया है, जिसमें वो लोगों के साथ volleyball पर हाथ आज़मा रहे हैं | बहुत से और युवाओं ने भी fit India efforts के साथ जुड़कर के अपने अनुभवों को share किया है | मैं समझता हूँ कि इस तरह के आन्दोलन हम सभी के लिए, पूरे देश के लिए बेहद फायदेमंद हैं |... और एक बात तो मैं ज़रूर कहूँगा – बिना ख़र्चे का fit India के movement का नाम है ‘योग’ | fit India अभियान में योग की विशेष महिमा है और आप भी तैयारी में लग गए होंगे | 21 जून ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’ का माहात्म्य तो अब पूरे विश्व ने स्वीकार किया है | आप भी अभी से तैयारी कीजिये | अकेले नहीं – आपका शहर, आपका गाँव, आपका इलाक़ा, आपके स्कूल, आपके college हर कोई किसी भी उम्र का – पुरुष हो, स्त्री हो योग से जोड़ने के लिए प्रयास करना चाहिये | सम्पूर्ण शारीरिक विकास के लिए, मानसिक विकास के लिए, मानसिक संतुलन के लिए योग का क्या उपयोग है, अब हिन्दुस्तान में और दुनिया में बताना नहीं पड़ता है और आपने देखा होगा कि एक animated video, जिसमें मुझे दिखाया गया है, वो इन दिनों काफ़ी प्रचलित हो रहा है | Animation वालों को मैं इसलिए भी बधाई देता हूँ कि उन्होंने बहुत बारीक़ी से जो काम एक टीचर कर सकता है वो animation से हो रहा है | आपको भी ज़रूर इसका लाभ मिलेगा |

मेरे नौजवान साथियो ! आप तो अब exam, exam, exam के चक्कर से निकलकर के अब छुट्टियों की चिंता में लगे होंगे | छुट्टियाँ कैसे मनाना, कहाँ जाना सोचते होंगे | मैं आज आपको एक नये काम के लिए निमंत्रण देने के लिए बात करना चाहता हूँ और मैंने देखा है कि बहुत सारे नौज़वान इन दिनों कुछ-न-कुछ नया सीखने के लिए भी अपना समय बिताते हैं | Summer Internship का माहात्म्य बढ़ता चला जा रहा है और नौज़वान भी उसकी तलाश करते रहते हैं, और वैसे भी internship अपने आप में एक नया अनुभव होता है | चार दीवारी के बाहर कागज़-कलम से, कंप्यूटर से दूर ज़िन्दगी को नए तरीके से जीने का अनुभव करने का अवसर मिलता है | मेरे नौज़वान साथियो, एक विशेष internship के लिए मैं आज आपसे आग्रह कर रहा हूँ | भारत सरकार के तीन मंत्रालय Sports हो, HRD हो, Drinking Water का Department हो - सरकार के तीन-चार मंत्रालय ने मिलकर के एक ‘Swachh Bharat Summer Internship 2018 ये launch किया है | कॉलेज के छात्र-छात्राएँ, NCC के नौज़वान, NSS के नौज़वान, नेहरु युवा केंद्र के नौज़वान, जो कुछ करना चाहते हैं, समाज के लिए देश के लिए और कुछ सीखना चाहते हैं, समाज के बदलाव में, जो अपने आप को जोड़ना चाहते हैं, निमित्त बनना चाहते हैं; एक सकारात्मक ऊर्जा को लेकर के समाज में कुछ-न-कुछ कर गुज़रने का इरादा है, उन सब के लिए अवसर है और इससे स्वच्छता को भी बल मिलेगा और जब हम 2 अक्तूबर से महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती मनायेंगे, उसके पहले हमें कुछ करने का संतोष मिलेगा और मैं ये भी बता दूँ कि जो उत्तम-से-उत्तम interns होंगे, जो कॉलेज में उत्तम काम किया होगा, विश्वविद्यालय में किया होगा - ऐसे सब को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार दिए जाएँगे | इस internship को सफलतापूर्वक पूरा करने वाले प्रत्येक intern को ‘स्वच्छ भारत मिशन’ द्वारा एक certificate दिया जायेगा | इतना ही नहीं, जो intern इसे अच्छे से पूरा करेंगे, UGC उन्हें दो credit point भी देगा | मैं छात्रों को, छात्राओं को, नौज़वानों को फिर एक बार निमंत्रण देता हूँ internship के लिए आप इसका लाभ उठाएँ | आप MyGov पर जाकर ‘Swachh Bharat Summer Internship’ के लिए register कर सकते हैं | मैं आशा करता हूँ कि हमारे युवा स्वच्छता के इस आन्दोलन को और आगे बढ़ाएँगे | आपके प्रयासों के बारे में जानने के लिए मैं भी इच्छुक हूँ | आप अपनी जानकारियाँ ज़रुर भेजिए, story भेजिए, photo भेजिए, video भेजिए | आइये ! एक नए अनुभव के लिए इन छुट्टियों को सीखने का अवसर बना दें|

       मेरे प्यारे देशवासियो ! जब भी मौका मिलता है तो दूरदर्शन पर ‘Good News India’ इस कार्यक्रम को जरुर देखता हूँ और मैं तो देशवासियों से भी अपील करूँगा कि ‘Good News India’ भी हमें देखना चाहिए  और वहाँ पर पता चलता है कि हमारे देश के किस-किस कोने में कितने-कितने लोग किस-किस प्रकार से अच्छा काम कर रहे हैं, अच्छी बातें हो रही हैं| 
    मैंने पिछले दिनों देखा दिल्ली के ऐसे युवाओं की कहानी दिखा रहे थे जो ग़रीब बच्चों की पढ़ाई के लिए नि:स्वार्थ भाव से जुटे हुए हैं | इन नौज़वानों के समूह ने दिल्ली में street child को और झुग्गियों में रहने वाले बच्चों की शिक्षा के लिए एक बड़ा अभियान छेड़ दिया है | शुरुआत में तो उन्होंने सड़कों पर भीख माँगने वाले या छोटे-मोटे काम करने वाले बच्चों की हालत ने उनको ऐसा झक़झोर दिया कि वो इस रचनात्मक काम के अंदर खप गए | दिल्ली की गीता कालोनी के पास की झुग्गियों में 15 बच्चों से प्रारंभ हुआ ये अभियान आज राजधानी के 12 स्थानों पर 2 हज़ार बच्चों से जुड़ चुका है, इस अभियान से जुड़े युवा, शिक्षक अपनी व्यस्त दिनचर्या से 2 घंटे का free time निकालकर सामाजिक बदलाव के इस भगीरथ  प्रयास में जुटे हुए हैं |
भाइयो-बहनो, उसी प्रकार से उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्र के कुछ किसान देश-भर के किसानों के लिए प्रेरणा स्रोत  बन गए हैं | उन्होंने संगठित प्रयासों से न सिर्फ़ अपना बल्कि अपने क्षेत्र का भी भाग्य बदल डाला | उत्तराखंड के बागेश्वर में मुख्य रूप से मंडवा, चौलाई, मक्का या जौ की फसल होती है | पहाड़ी क्षेत्र होने की वजह से किसानों को इसका उचित मूल्य नहीं मिल पाता था लेकिन कपकोट तहसील के किसानों ने इन फसलों को सीधे बाज़ार में बेचकर घाटा सहने के बजाये उन्होंने मूल्य वृद्धि का रास्ता अपनाया, value addition का रास्ता अपनाया | उन्होंने क्या किया - इन्हीं खेत पैदावार में से biscuit बनाना शुरू किया और biscuit बेचना शुरू किया| उस इलाके में तो ये बड़ी पक्की मान्यता है कि iron rich है और iron rich, लौह-तत्व से युक्त ये biscuit गर्भवती महिलाओं के लिए तो एक प्रकार से बहुत उपयोगी होते हैं | इन किसानों ने मुनार गाँव में एक सहकारी संस्था बनाई है और वहाँ biscuit बनाने की फैक्ट्री खोल ली है | किसानों की हिम्मत देखकर प्रशासन ने भी इसे राष्ट्रीय आजीविका मिशन से जोड़ दिया है | ये biscuit अब न सिर्फ बागेश्वर ज़िले के लगभग पचास आंगनवाड़ी केन्द्रों में, बल्कि अल्मोड़ा और कौसानी  तक पहुँचाये जा रहे हैं | किसानों की मेहनत से संस्था का सालाना turnover न केवल 10 से 15 लाख रूपये तक पहुँच चुका है बल्कि 900 से अधिक परिवारों को रोज़गार के अवसर मिलने से ज़िले से होने वाला पलायन भी रुकना शुरू हुआ है |
मेरे प्यारे देशवासियो ! जब हम सुनते हैं कि भविष्य में दुनियाँ में पानी को लेकर के युद्ध होने वाले हैं | हर कोई ये बात बोलता है लेकिन क्या हमारी कोई जिम्मेवारी है क्या ? क्या हमें नहीं लगता है कि जल-संरक्षण ये सामाजिक जिम्मेवारी होनी चाहिए? हर व्यक्ति की जिम्मेवारी होनी चाहिए |  बारिश की एक-एक बूँद हम कैसे बचाएँ और हम में से सबको पता है कि हम भारतीयों के दिल में जल-संरक्षण ये कोई नया विषय नहीं है, किताबों का विषय नहीं है, भाषा का विषय नहीं रहा | सदियों से हमारे पूर्वजों ने इसे जी करके दिखाया है | एक-एक बूँद पानी के माहात्म्य को उन्होंने प्राथमिकता दी है | उन्होंने ऐसे नए-नए उपाए ढूंढें है कि पानी की एक-एक बूँद को कैसे बचाया जाए ?आप में से शायद जिन लोगों को तमिलनाडु में जाने का अवसर मिलता होगा तो तमिलनाडु में कुछ मंदिर ऐसे हैं कि जहाँ मंदिरों में सिंचाई व्यवस्था, जल-संरक्षण व्यवस्था, सूखा-प्रबंधन, इसके बड़े-बड़े शिलालेख मंदिरों में लिखे गए हैं | मनारकोविल,  चिरान महादेवी, कोविलपट्टी या पुदुकोट्टई (Pudukottai)  हो सब जगह पर बड़े-बड़े शिलालेख आपको दिखाई देंगे | आज भी विभिन्न बावड़ियाँ, stepwells पर्यटन स्थल के रूप में तो परिचित हैं लेकिन ये न भूलें कि ये जल-संग्रह के बड़े हमारे पूर्वजों के अभियान के जीते-जागते सबूत हैं | गुजरात में अडालज और पाटन की रानी की वाव(बावड़ी) जो एक UNESCO World Heritage site है इनकी भव्यता देखते ही बनती है ; एक प्रकार से बावड़ियाँ जल मंदिर ही तो हैं | अगर आप राजस्थान जाएँ तो आप जोधपुर में चाँद बावड़ी जरुर जाइएगा | ये भारत की सबसे बड़ी और खूबसूरत बावड़ी में से एक है और सबसे ध्यान देने वाली बात ये है कि वह उस धरती पर है जहाँ पानी की क़िल्लत रहती है | April, May, June, July ये समय ऐसा होता है कि वर्षा के पानी को संग्रह करने का उत्तम अवसर होता है और अगर हम advance में जितनी तैयारियाँ करें उतना हमें फायदा मिलता है | मनरेगा का budget भी इस जल-संरक्षण के लिए काम आता है | पिछले तीन वर्षों के दौरान जल-संरक्षण और जल-प्रबंधन की दिशा में हर किसी ने अपने-अपने तरीके से प्रयास किये हैं | हर साल मनरेगा budget से हटकर  जल-संरक्षण और जल-प्रबंधन पर औसतन 32 हज़ार करोड़ रूपए खर्च किये गए हैं | 2017-18 की बात करें तो मैं 64 हज़ार करोड़ रूपए के कुल व्यय का 55% यानी क़रीब-क़रीब 35 हज़ार करोड़ रूपए  जल-संरक्षण जैसे कामों पर खर्च किये गए हैं | पिछले तीन वर्षों के दौरान इस तरह के जल-संरक्षण और जल-प्रबंधन उपायों के माध्यम से क़रीब-क़रीब 150 लाख हैक्टेयर भूमि को  अधिक मात्रा में लाभ मिला है | जल-संरक्षण और जल-प्रबंधन के लिए भारत सरकार के द्वारा जो मनरेगा में धनराशि मिलती है, कुछ लोगों ने इसका बहुत अच्छा फायदा उठाया है | केरल में कुट्टूमपेरूर (Kuttemperoor), उस नदी पर 7 हज़ार मनरेगा के काम करने वाले लोगों ने 70 दिनों तक कड़ी मेहनत करके उस नदी को पुनर्जीवित कर दिया | गंगा और यमुना पानी से भरी हुई नदियाँ हैं  लेकिन उत्तर प्रदेश में कई और इलाके भी हैं; जैसे फतेहपुर ज़िला का ससुर खदेरी नाम की दो छोटी नदियाँ सूख गयीं | ज़िला प्रशासन ने मनरेगा के तहत बहुत बड़ी संख्या में मिट्टी और जल-संरक्षण के कार्य का बीड़ा उठाया | क़रीब-क़रीब 40-45 गाँवों के लोगों की मदद से इस ससुर खदेरी नदी जो सूख चुकी थी, उसको पुनर्जीवित किया | पशु हो, पक्षी हो, किसान हो, खेती हो, गाँव हो कितनी बड़ी आशीर्वाद भरी ये सफलता है | मैं यही कहूँगा कि फिर एक बार April, May, June, July हमारे सामने हैं, जल-संचय, जल-संरक्षण के लिए हम भी कुछ ज़िम्मेवारी उठाएँ, हम भी कुछ योजना बनाएँ, हम भी कुछ करके दिखाएँ |
       मेरे प्यारे देशवासियो ! जब ‘मन की बात’ होती है तो मुझे चारों तरफ से सन्देश आते हैं, चिट्ठियाँ आती हैं, फ़ोन आते हैं | पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परग़ना ज़िले के देवीतोला गाँव के आयन कुमार बनर्जी ने MyGov पर अपने comment में लिखा है - “हम हर वर्ष रबीन्द्र जयंती मनाते हैं लेकिन कई लोग नोबेल पुरस्कार विजेता रबीन्द्रनाथ टैगोर की peacefully, beautifully और integrity के साथ जीने की philosophy के बारे में जानते ही नहीं हैं | कृपया ‘मन की बात’ कार्यक्रम में इस विषय पर चर्चा करें ताकि लोग उसके बारे में जान सकें |”
 मैं आयन जी को धन्यवाद देता हूँ कि आपने ‘मन की बात’ के सभी साथियों का ध्यान इस ओर आकर्षित किया| गुरुदेव टैगोर ज्ञान और विवेक से सम्पूर्ण व्यक्तित्व वाले थे, जिनकी लेखनी ने हर किसी पर अपनी अमिट छाप छोड़ी | रबीन्द्रनाथ- एक प्रतिभाशाली व्यक्तित्व थे, बहुआयामी व्यक्तित्व थे, लेकिन उनके भीतर एक शिक्षक हर पल अनुभव कर सकते हैं | उन्होंने गीतांजलि में लिखा है- ‘He, who has the knowledge has the responsibility to impart it to the students.’ अर्थात जिसके पास ज्ञान है, उसकी ये जिम्मेदारी है कि वह उसे जिज्ञासुओं के साथ बाँटे |
 मैं बांग्ला भाषा तो नहीं जानता हूँ, लेकिन जब छोटा था मुझे बहुत जल्दी उठने की आदत रही - बचपन से और पूर्वी हिंदुस्तान में रेडियो जल्दी शुरू होता है, पश्चिम हिंदुस्तान में देर से शुरू होता है तो सुबह मोटा-मोटा मुझे अंदाज़ है; शायद 5.30 बजे रबीन्द्र संगीत प्रारंभ होता था, रेडियो पर और मुझे उसकी आदत थी | भाषा तो नहीं जानता था सुबह जल्दी उठ करके रेडियो पर रबीन्द्र संगीत सुनने की मेरी आदत हो गई थी और जब आनंदलोके और आगुनेर, पोरोशमोनी- ये कविताएँ सुनने का जब अवसर मिलता था, मन को बड़ी ही चेतना मिलती थी | आपको भी रबीन्द्र संगीत ने, उनकी कविताओं ने ज़रुर प्रभावित किया होगा | मैं रबीन्द्र नाथ ठाकुर को आदरपूर्वक अंजलि देता हूँ |
  मेरे प्यारे देशवासियो ! कुछ ही दिनों में रमज़ान का पवित्र महीना शुरू हो रहा है | विश्वभर में रमज़ान का महीना पूरी श्रद्धा और सम्मान से मनाया जाता है | रोज़े का सामूहिक पहलू यह है कि जब इंसान खुद भूखा होता है तो उसको दूसरों की भूख का भी एहसास होता है | जब वो ख़ुद प्यासा होता है तो दूसरों की प्यास का उसे एहसास होता है | पैगम्बर मोहम्मद साहब की शिक्षा और उनके सन्देश को याद करने का यह अवसर है | उनके जीवन से समानता और भाईचारे के मार्ग पर चलना यह हमारी ज़िम्मेदारी बनती है | एक बार एक इंसान ने पैगम्बर साहब से पूछा- “इस्लाम में कौन सा कार्य सबसे अच्छा है?” पैगम्बर साहब ने कहा – “किसी गरीब और ज़रूरतमंद को खिलाना और सभी से सदभाव से मिलना, चाहे आप उन्हें जानते हो या न जानते हो” | पैगम्बर मोहम्मद साहब ज्ञान और करुणा में विश्वास रखते थे | उन्हें किसी बात का अहंकार नहीं था | वह कहते थे कि अहंकार ही ज्ञान को पराजित करता रहता है | पैगम्बर मोहम्मद साहब का मानना था कि यदि आपके पास कोई भी चीज़ आपकी आवश्यकता से अधिक है तो आप उसे किसी ज़रूरतमंद व्यक्ति को दें, इसीलिए रमज़ान में दान का भी काफी महत्व है | लोग इस पवित्र माह में ज़रूरतमंदों को दान देते हैं | पैगम्बर मोहम्मद साहब का मानना था कोई व्यक्ति अपनी पवित्र आत्मा से अमीर होता है न कि धन-दौलत से |  मैं सभी देशवासियों को रमज़ान के पवित्र महीने की शुभकामनाएँ देता हूँ और मुझे आशा है यह अवसर लोगों को शांति और सदभावना के उनके संदेशों पर चलने की प्रेरणा देगा |
   मेरे प्यारे देशवासियो ! बुद्ध पूर्णिमा प्रत्येक भारतीय के लिए विशेष दिवस है | हमें गर्व होना चाहिए कि भारत करुणा, सेवा और त्याग की शक्ति दिखाने वाले महामानव भगवान बुद्ध की धरती है, जिन्होंने विश्वभर में लाखों लोगों का मार्गदर्शन किया | यह बुद्ध पूर्णिमा भगवान बुद्ध को स्मरण करते हुए उनके रास्ते पर चलने का प्रयास करने का, संकल्प करने का और चलने का हम सबके दायित्व को पुन:स्मरण कराता है | भगवान बुद्ध समानता, शांति, सदभाव और भाईचारे की प्रेरणा शक्ति है | यह वैसे मानवीय मूल्य हैं, जिनकी आवश्यकता आज के विश्व में सर्वाधिक है | बाबा साहेब डॉ. आम्बेडकर जोर देकर कहते हैं कि उनकी social philosophy  में भगवान बुद्ध की बड़ी प्रेरणा रही है | उन्होंने कहा था “My Social philosophy may be said to be enshrined in three words; liberty, equality and fraternity. My Philosophy has roots in religion and not in political science. I have derived them from the teaching of my master, The Buddha.”
बाबा साहेब ने सविंधान के माध्यम से दलित हो, पीड़ित हो, शोषित हो, वंचित हो हाशिये पर खड़े करोड़ों लोगों को सशक्त बनाया | करुणा का इससे बड़ा उदाहरण नहीं हो सकता | लोगों की पीड़ा के लिए यह करुणा भगवान बुद्ध के सबसे महान गुणों में से एक थी | ऐसा कहा जाता है कि बौद्ध भिक्षु विभिन्न देशों की यात्रा करते रहते थे | वह अपने साथ भगवान बुद्ध के समृद्ध विचारों को ले करके जाते थे और यह सभी काल में होता रहा है | समूचे  एशिया में भगवान बुद्ध की शिक्षाएँ हमें विरासत में मिली हैं | वह हमें अनेक एशियाई देशों; जैसे चीन, जापान, कोरिया, थाईलैंड, कम्बोडिया, म्यांमार कई अनेक देश वहाँ बुद्ध की इस परंपरा, बुद्ध की शिक्षा जड़ों में  जुड़ी हुई हैं और यही कारण है कि हम Buddhist Tourism के लिए Infrastructure विकसित कर रहे हैं, जो दक्षिण-पूर्वी एशिया के महत्वपूर्ण स्थानों को, भारत के खास बौद्ध स्थलों के साथ जोड़ता है | मुझे इस बात की भी अत्यंत प्रसन्नता है कि भारत सरकार कई बौद्ध मंदिरों के पुनरुद्धार कार्यों में भागीदार है | इसमें म्यांमार में बागान में सदियों पुराना वैभवशाली आनंद मंदिर भी सम्मलित है | आज विश्व में हर जगह टकराव और मानवीय पीड़ा देखने को मिलती है | भगवान बुद्ध की शिक्षा घृणा को दया से मिटाने की राह दिखाती है | मैं दुनिया भर में फैले हुए भगवान बुद्ध के प्रति श्रद्धा रखने वाले, करुणा के सिद्धांतों में विश्वास करने वाले - सबको बुद्ध पूर्णिमा की मंगलमयी कामना करता हूँ | भगवान बुद्ध से पूरी दुनिया के लिए आशीर्वाद मांगता हूँ, ताकि हम उनकी शिक्षा पर आधारित एक शांतिपूर्ण और करुणा से भरे विश्व का निर्माण करने में अपनी ज़िम्मेदारी निभा सकें | आज जब हम भगवान बुद्ध को याद कर रहे हैं | आपने laughing Buddha की मूर्तियों के बारे में सुना होगा,  जिसके बारे में कहा जाता है कि laughing Buddha good luck लाते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि smiling Buddha भारत के रक्षा इतिहास की एक महत्वपूर्ण घटना से भी जुड़ी हुई है | अब आप सोचते रहे होंगे  कि smiling Buddha और भारत की सैन्य-शक्ति के बीच क्या संबंध है? आपको याद होगा आज से 20 वर्ष पहले 11 मई, 1998 शाम को तत्कालीन भारत के प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था और उनकी बातों ने पूरे देश को गौरव, पराक्रम और खुशी के पल से भर दिया था | विश्वभर में फैले हुए भारतीय समुदाय में नया आत्मविश्वास उजाग़र हुआ था | वह दिन था बुद्ध पूर्णिमा का | 11 मई, 1998, भारत के पश्चिमी छोर पर राजस्थान के पोखरण में परमाणु परीक्षण किया गया था | उसे 20 वर्ष हो रहे हैं  और ये परीक्षण भगवान बुद्ध के आशीर्वाद के साथ बुद्ध पूर्णिमा के दिन  किया गया था | भारत का परीक्षण सफल रहा और एक तरह से कहें तो विज्ञान और तकनीक के क्षेत्र में भारत ने अपनी ताक़त का प्रदर्शन किया था | हम कह सकते हैं कि वो दिन भारत के इतिहास में उसकी सैन्य-शक्ति के प्रदर्शन के रूप में अंकित है | भगवान बुद्ध ने दुनिया को दिखाया है-  inner strength अंतर्मन की शक्ति शांति के लिए आवश्यक है | इसी तरह जब आप एक देश के रूप में मजबूत होते हैं तो आप सब के साथ शांतिपूर्ण रह भी सकते हैं | मई, 1998 का महीना देश के लिए सिर्फ़ इसलिए महत्वपूर्ण नहीं है कि इस महीने में परमाणु परीक्षण हुए, बल्कि वो जिस तरह से किए गए थे वह महत्वपूर्ण है | इसने पूरे विश्व को दिखाया कि भारत की भूमि महान वैज्ञनिकों की भूमि है और एक मज़बूत नेतृत्व के साथ भारत नित नए मुकाम और ऊँचाइयों को हासिल कर सकता है | अटल बिहारी वाजपेयी जी ने मंत्र दिया था - “जय-जवान जय-किसान, जय-विज्ञान” आज जब हम 11 मई, 1998 उसका 20वाँ वर्ष मनाने जा रहे हैं, तब भारत की शक्ति के लिए अटल जी ने जो ‘जय-विज्ञान’ का हमें मंत्र दिया है, उसे आत्मसात करते हुए आधुनिक भारत बनाने के लिए, शक्तिशाली भारत बनाने के लिए, समर्थ भारत बनाने के लिए हर युवा योगदान देने का संकल्प करे | अपने सामर्थ्य को भारत के सामर्थ्य का हिस्सा बनाएँ | देखते-ही-देखते जिस यात्रा को अटल जी ने प्रारंभ किया था, उसे आगे बढ़ाने का एक नया आनंद, नया संतोष हम भी प्राप्त कर पाएँगे |
मेरे प्यारे देशवासियो, फिर “मन की बात” में मिलेंगे तब और बातें करेंगे|
              बहुत-बहुत धन्यवाद |

Monday, 23 April 2018

A Tribute to Dr. Balantrapu Rajani Kanta Rao



Former All India Radio Station Director, noted writer, composer and musicologist, eminent broadcaster and artist, Sri Balantrapu Rajanikantha Rao passed away at Vijayawada on 22.04.2018.
Born on 29th January 1920, fondly called Jeji maamayya or simply Rajinee, Sri Rajanikanta Rao began his career as a Programme Executive in All India Radio, Madras in 1941. He composed and conducted music for Vadyabrinda (a national orchestra), AIR-Delhi and Vadyabrinda, AIR-Madras. As the Programme Executive in AIR, Vijayawada, he originated 'Bhakti Ranjani' a devotional programme. He initiated and designed radio interactive programmes. Rajanikanta Rao became the Station Director of AIR-Ahmedabad, AIR-Vijayawada and retired as the Station Director of AIR-Bangalore (1976-78), completing 36 years in the broadcasting field, during which his works were greatly admired. He was made the Producer Emeritus of Akashvani in 1982.
Since the age of twenty one, he wrote lyrics, composed songs and directed ballets. 
He wrote and composed the first ever broadcast Telugu song in independent India (titled "Mroyimpu jayabheri") on the midnight of 15 August 1947, from AIR, Madras. Under the pseudonyms, Nalini and Taranath, he has composed many tunes for popular movies, which won him many accolades. His collection of children’s songs titled “Jeji mamayya paatalu” and their composition are a hit.


From 1988 to 1990, he worked as a visiting professor of the Telugu University, Rajahmundry. He then joined the Tirumala Tirupati Devasthanams (TTD) as a special officer of the Sri Venkateswara Kalapeetham and worked there for 4 years. He presented research papers on musicology in various conferences of Music Academy, Madras on subjects that include Kshetrayya's lyrics, Geeta Govinda, Ragas of Gandhara Grama, ancient scales of Indian music, etc.
Rajanikanta Rao made a name for himself with operas, which have been choreographed by famous dancers like Vempati Chinna Satyam and Shobha Naidu.
His literary work, 'Andhra Vaggeyakara Charitam' is regarded his magnum opus, which won him the Kendra Sahiyta Academy Award in 1961. It consists of biographies of lyricists and music composers along with a history and evolution of Andhra music and even now it is a guide for Music Scholars. Sri. Rajanikanta Rao was awarded an Honorary Doctorate by his alma mater Andhra University in 1980.
Sri B. Rajinikatha Rao spanned the world of music and literature with extra-ordinary zeal. The numerous titles such as Kalaratna, Kalaprapoorna, Naada Sudharnava, Pumbhaava Saraswati, Naveena Vaggeyakara conferred on him, are reflections of his versatility. He won several national and state level awards for his works. He is one among the few who received both Sangeet Natak Academy and Sahitya Academy awards. He also received Life time achievement awards from the AP state government as well as from other organisations.

The State Government announced that his funeral would be held with state honour today, 23rd April 2018. The mortal remains of the doyen were brought to the office of AIR, Vijayawada this morning around 10.40 am en route the funeral and the staff paid homage to him.

Sunday, 25 March 2018

‘मन की बात’ (42वीं कड़ी) प्रसारण तिथि: 25.03.2018


  मेरे प्यारे देशवासियो, नमस्कार | आज रामनवमी का पावन पर्व है | रामनवमी के इस पवित्र पर्व पर देशवासियों को मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएँ | पूज्य बापू के जीवन में ‘राम नाम’ की शक्ति कितनी थी वो हमने उनके जीवन में हर पल देखा है | पिछले दिनों 26 जनवरी को जब ASEAN (आसियान) देशों के सभी महानुभाव यहाँ थे तो अपने साथ Cultural troop लेकर के आये थे और बड़े गर्व की बात है कि उसमें से अधितकतम देश, रामायण को ही हमारे सामने प्रस्तुत कर रहे थे |  यानी राम और रामायण, न सिर्फ़ भारत में लेकिन विश्व के इस भू-भाग में ASEAN countries में, आज भी उतने ही प्रेरणा और प्रभाव पैदा कर रहे हैं | मैं फिर एक बार आप सबको रामनवमी की शुभकामनाएँ देता हूँ |
मेरे प्यारे देशवासियो, हर बार की तरह इस बार भी मुझे आप सबके सारे पत्र, email, phone-call और comments बहुत बड़ी मात्रा में मिले हैं | कोमल ठक्कर जी ने MyGov पर - आपने संस्कृत के on-line courses शुरू करने के बारे में जो लिखा वो मैंने पढ़ा | IT professional होने के साथ-साथ, संस्कृत के प्रति आपका प्रेम देखकर बहुत अच्छा लगा | मैंने सम्बंधित विभाग से इस ओर हो रहे प्रयासों की जानकारी आप तक पहुँचाने के लिए कहा है | ‘मन की बात’ के श्रोता जो संस्कृत को लेकर कार्य करते हैं, मैं उनसे भी अनुरोध करूंगा कि इस पर विचार करें कि कोमल जी के सुझाव को कैसे आगे बढ़ाया जाए |
श्रीमान घनश्याम कुमार जी, गाँव बराकर, जिला नालन्दा, बिहार - आपके NarendraModiApp पर लिखे comments पढ़े | आपने जमीन में घटते जल-स्तर पर जो चिंता जताई है, वह निश्चित रूप से बहुत ही महत्वपूर्ण है |
श्रीमान शकल शास्त्री जी, कर्नाटक - आपने शब्दों के बहुत ही सुन्दर तालमेल के साथ लिखा कि ‘आयुष्मान भारत’ तभी होगा जब ‘आयुष्मान भूमि’ होगी और ‘आयुष्मान भूमि’ तभी होगी जब हम इस भूमि पर रहने वाले प्रत्येक प्राणी की चिंता करेंगे | आपने गर्मियों में पशु-पक्षियों के लिए पानी रखने के लिए भी सभी से आग्रह किया है | शकल जी, आपकी भावनाओं को मैंने सभी श्रोताओं तक पहुँचा दिया है |
श्रीमान योगेश भद्रेशा जी, उनका कहना है कि मैं इस बार युवाओं से उनके स्वास्थ्य के बारे में बात करूँ | उन्हें लगता है कि Asian countries में तुलना करें तो हमारे युवा physically weak हैं | योगेश जी, मैंने सोचा है कि इस बार health को लेकर के सभी के साथ विस्तार से बात करूँ - Fit India की बात करूँ | और आप सब नौजवान मिल करके Fit India का movement भी चला सकते हैं |
  पिछले दिनों France के राष्ट्रपति काशी की यात्रा पर गए थे | वाराणसी के श्रीमान प्रशांत कुमार ने लिखा है कि उस यात्रा के सारे दृश्य, मन को छूने वाले थे, प्रभाव पैदा करने वाले थे | और, उन्होंने आग्रह किया था कि वो सारे फ़ोटो, सारे Video, social media पर प्रचारित करनी चाहिये | प्रशांत जी, भारत सरकार ने वो फ़ोटो उसी दिन social media और NarendraModiApp पर share कर दिए थे | अब आप उनको like करें और re-twit करें, अपने मित्रों को पहुँचाएँ |
Chennai से अनघा, जयेश और बहुत सारे बच्चों ने Exam Warrior पुस्तक के पीछे जो gratitude cards दिए हैं उन पर उन्होंने, अपने दिल में जो विचार आये, वो लिख कर मुझे ही भेज दिए हैं | अनघा, जयेश,  मैं आप सब बच्चों को बताना चाहता हूँ कि आपके इन पत्रों से मेरे दिनभर की थकान छू-मन्तर हो जाती है | इतने सारे पत्र, इतने सारे phone call, comments, इनमें से जो कुछ भी मैं पढ़ पाया, जो भी मैं सुन पाया और उसमें से बहुत सी चीजें हैं जो मेरे मन को छू गयी - सिर्फ़ उनके बारे में ही बात करूँ तो भी शायद महीनों तक मुझे लगातार कुछ-न-कुछ कहते ही जाना पड़ेगा |
इस बार ज्यादातर पत्र बच्चों के हैं जिन्होंने exam के बारे में लिखा है | छुट्टियों के अपने plan, share किये हैं | गर्मियों में पशु-पक्षियों के पानी की चिंता की है | किसान-मेलों और खेती को लेकर जो गतिविधियाँ देश-भर में चल रही हैं उसके बारे में किसान भाई-बहनों के पत्र आये हैं | Water conservation को लेकर के कुछ सक्रिय नागरिकों ने सुझाव भेजे हैं | जब से हम लोग आपस में ‘मन की बात’ रेडियो के माध्यम से कर रहे हैं तब से मैंने एक pattern देखा है कि गर्मियों में ज्यादातर पत्र, गर्मियों के विषय लेकर के आते हैं | परीक्षा से पहले विद्यार्थी-मित्रों की चिन्ताओं को लेकर के पत्र आते हैं | festival season में हमारे त्योहार, हमारी संस्कृति, हमारी परम्पराओं को लेकर के बातें आती हैं | यानी मन की बातें, मौसम के साथ बदलती भी हैं और शायद यह भी सच है कि हमारे मन की बातें, कहीं किसी के जीवन में मौसम भी बदल देती हैं | और क्यों न बदले ! आपकी इन बातों में, आपके इन अनुभवों में, आपके इन उदाहरणों में, इतनी प्रेरणा, इतनी ऊर्जा, इतना अपनापन, देश के लिए कुछ करने का जज़्बा रहता है | यह तो पूरे देश का ही मौसम बदलने की ताक़त रखता है | जब मुझे आपके पत्रों में पढ़ने को मिलता है कि कैसे असम के करीमगंज के एक रिक्शा-चालक अहमद अली ने अपनी इच्छाशक्ति के बल पर ग़रीब बच्चों के लिए नौ (9) स्कूल बनवाये हैं - तब इस देश की अदम्य इच्छाशक्ति के दर्शन होते हैं | जब मुझे कानपुर के डॉक्टर अजीत मोहन चौधरी की कहानी सुनने को मिली कि वो फुटपाथ पर जाकर ग़रीबों को देखते हैं और उन्हें मुफ़्त दवा भी देते हैं - तब इस देश के बन्धु-भाव को महसूस करने का अवसर मिलता है | 13 साल पहले, समय पर इलाज़ न मिलने के कारण Kolkata के Cab-चालक सैदुल लस्कर (Saidul Laskar) की बहन की मृत्यु हो गयी - उन्होंने अस्पताल बनाने की ठान ली ताकि इलाज़ के अभाव में किसी ग़रीब की मौत न हो | सैदुल ने अपने इस mission में घर के गहने बेचे, दान के ज़रिये रूपये इकट्ठे किये | उनकी Cab में सफ़र करने वाले कई यात्रियों ने दिल खोलकर दान दिया | एक engineer बेटी ने तो अपनी पहली salary ही दे दी | इस तरह से रूपये जुटाकर 12 वर्षों के बाद, आख़िरकार सैदुल लस्कर ने जो भागीरथ प्रयास किया, वो रंग लाया और आज उन्हीं की इस कड़ी मेहनत के कारण, उन्हीं के संकल्प के कारण कोलकाता के पास पुनरी (punri) गाँव में लगभग 30 bed की क्षमता वाला अस्पताल बनकर तैयार है | यह है New India की ताक़त | जब उत्तरप्रदेश की एक महिला अनेकों संघर्ष के बावजूद 125 शौचालयों का निर्माण करती है और महिलाओं को उनके हक़ के लिए प्रेरित करती है - तब मातृ-शक्ति के दर्शन होते हैं | ऐसे अनेक प्रेरणा-पुंज मेरे देश का परिचय करवाते हैं | आज पूरे विश्व में भारत की ओर देखने का नज़रिया बदला है | आज जब, भारत का नाम बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है तो इसके पीछे माँ-भारती के इन बेटे-बेटियों का पुरुषार्थ छुपा हुआ है | आज देश भर में, युवाओं में, महिलाओं में, पिछड़ों में, ग़रीबो में, मध्यम-वर्ग में, हर वर्ग में यह विश्वास जगा है कि हाँ! हम आगे बढ़ सकते हैं, हमारा देश आगे बढ़ सकता है | आशा-उम्मीदों से भरा एक आत्मविश्वास का सकारात्मक माहौल बना है | यही आत्मविश्वास, यही positivity, New India का हमारा संकल्प साकार करेगी, सपना सिद्ध करेगी |   
    
मेरे प्यारे देशवासियो, आने वाले कुछ महीने किसान भाइयों और बहनों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं | इसी कारण ढ़ेर सारे पत्र, कृषि को लेकर के आए हैं | इस बार मैंने दूरदर्शन का DD Kisan Channel पर जो किसानों के साथ चर्चाएं होती हैं, उनके video भी मंगवा कर देखे और मुझे लगता है कि हर किसान को दूरदर्शन की ये DD Kisan Channel से जुड़ना चाहिए, उसे देखना चाहिए और उन प्रयोगों को अपने खेत में लागू करना चाहिए | महात्मा गाँधी से लेकर के शास्त्री जी हों, लोहिया जी हों, चौधरी चरण सिंह जी हों, चौधरी देवीलाल जी हों- सभी ने कृषि और किसान को देश की अर्थव्यवस्था और आम जन-जीवन का एक अहम् अंग माना | मिट्टी, खेत-खलिहान और किसान से महात्मा गाँधी को कितना लगाव था,ये भाव उनकी इस पंक्ति में झलकता है, जब उन्होंने कहा था-


‘To forget how to dig the earth and to tend the soil, is to forget ourselves.’
यानी, धरती को खोदना और मिट्टी का ख्याल रखना अगर हम भूल जाते हैं, तो ये स्वयं को भूलने जैसा है | इसी तरह, लाल बहादुर शास्त्री जी पेड़, पौधे और वनस्पति के संरक्षण और बेहतर कृषि-ढांचे की आवश्यकता पर अक्सर ज़ोर दिया करते थे | डॉ० राम मनोहर लोहिया ने तो हमारे किसानों के लिए बेहतर आय, बेहतर सिंचाई-सुविधाएँ और उन सब को सुनिश्चित करने के लिए और खाद्य एवं दूध उत्पादन को बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर जन-जागृति की बात कही थी | 1979 में अपने भाषण में चौधरी चरण सिंह जी ने किसानों से नई technology का उपयोग करने, नए innovation करने का आग्रह किया, इसकी आवश्यकता पर बल दिया | मैं पिछले दिनों दिल्ली में आयोजित कृषि-उन्नति-मेले में गया था | वहाँ किसान भाई-बहनों और वैज्ञानिकों के साथ मेरी बातचीत, कृषि से जुड़े अनेक अनुभवों को जानना, समझना, कृषि से जुड़े innovations के बारे में जानना - ये सब मेरे लिए एक सुखद अनुभव तो था ही लेकिन जिस बात ने मुझे सबसे ज्यादा प्रभावित किया वो था मेघालय और वहाँ के किसानों की मेहनत | कम क्षेत्रफल वाले इस राज्य ने बड़ा काम करके दिखाया है | मेघालय के हमारे किसानों ने वर्ष 2015-16 के दौरान, पिछले पाँच साल की तुलना में record पैदावार की है | उन्होंने दिखाया है कि जब लक्ष्य निर्धारित हो, हौसला बुलंद हो और मन में संकल्प हो तो उसे सिद्ध कर सकते हैं, करके दिखाया जा सकता है | आज किसानों की मेहनत को technology का साथ मिल रहा है, जिससे कृषि-उत्पादक को काफी बल मिला है | मेरे पास जो पत्र आये हैं, उसमें मैं देख रहा था कि बहुत सारे किसानों ने MSP के बारे में लिखा हुआ था और वो चाहते थे कि मैं इस पर उनके साथ विस्तार से बात करूँ |
भाइयो और बहनो, इस साल के बजट में किसानों को फसलों की उचित क़ीमत दिलाने के लिए एक बड़ा निर्णय लिया गया है | यह तय किया गया है कि अधिसूचित फसलों के लिए MSP, उनकी लागत का कम-से-कम डेढ़ गुणा घोषित किया जाएगा | अगर मैं विस्तार से बताऊँ तो MSP के लिए जो लागत जोड़ी जायेगी उसमें दूसरे श्रमिक जो मेहनत और परिश्रम करते हैं- उनका मेहनताना, अपने मवेशी, मशीन या क़िराए पर लिए गए मवेशी या मशीन का ख़र्च, बीज का मूल्य, उपयोग की गयी हर तरह की खाद का मूल्य, सिंचाई का ख़र्च, राज्य सरकार को दिया गया Land Revenue, Working Capital के ऊपर दिया गया ब्याज़, अगर ज़मीन lease पर ली है तो उसका किराया और इतना ही नहीं, किसान जो ख़ुद मेहनत करता है या उसके परिवार में से कोई कृषि -कार्य में श्रम योगदान करता है, उसका मूल्य भी उत्पादन लागत में जोड़ा जाएगा | इसके अलावा, किसानों को फसल की उचित क़ीमत मिले इसके लिए देश में Agriculture Marketing Reform पर भी बहुत व्यापक स्तर पर काम हो रहा है | गाँव की स्थानीय मंडियां, Wholesale Market और फिर Global Market से जुड़े - इसका प्रयास हो रहा है | किसानों को अपनी उपज बेचने के लिए बहुत दूर नहीं जाना पड़े - इसके लिए देश के 22 हज़ार ग्रामीण हाटों को ज़रुरी infrastructure के साथ upgrade करते हुए APMC और e-NAM platform के साथ integrate किया जाएगा | यानी एक तरह से खेत से देश के किसी भी market के साथ connect -ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है |
  मेरे प्यारे देशवासियो, इस वर्ष महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती-वर्ष के महोत्सव की शुरुआत होगी | यह एक ऐतिहासिक अवसर है | देश कैसे यह उत्सव मनाये? स्वच्छ भारत तो हमारा संकल्प है ही, इसके अलावा सवा-सौ करोड़ देशवासी कंधे-से-कंधा मिलाकर कैसे गाँधी जी को उत्तम-से-उत्तम श्रद्धांजलि दे सकते हैं? क्या नये-नये कार्यक्रम किये जा सकते हैं? क्या नये-नये तौर-तरीक़े अपनाए जा सकते हैं? आप सबसे मेरा आग्रह है, आप MyGov के माध्यम से इस पर अपने विचार सबके साथ share करें | ‘गाँधी 150’ का logo क्या हो? slogan या मंत्र या घोष-वाक्य क्या हो? इस बारे में आप अपने सुझाव दें | हम सबको मिलकर बापू को एक यादगार श्रद्धांजलि देनी है और बापू को स्मरण करके उनसे प्रेरणा लेकर के हमारे देश को नई ऊँचाइयों पर पहुँचाना है |
####( फ़ोन) ‘’नमस्ते आदरणीय प्रधानमंत्री जी ... मैं प्रीति चतुर्वेदी गुडगाँव से बोल रही हूँ ...प्रधानमंत्री जी , जिस तरह से आपने ‘स्वच्छ-भारत अभियान’ को एक सफलतापूर्ण अभियान बनाया है , अब समय आ गया है कि हम स्वस्थ-भारत अभियान को भी उसी तरह से सफल बनाएँ ...इस अभियान के लिए आप लोगों को,सरकारों को ,Institutions को किस तरह से Mobilise कर रहे हैं , इस पर हमें कुछ बताएं ..धन्यवाद ..  ‘’   

धन्यवाद, आपने सही कहा है और मैं मानता हूँ कि स्वच्छ भारत और स्वस्थ भारत दोनों एक-दूसरे के पूरक हैं | स्वास्थ्य के क्षेत्र में आज देश conventional approach से आगे बढ़ चुका है | देश में स्वास्थ्य से जुड़ा हर काम जहाँ पहले सिर्फ Health Ministry की ज़िम्मेदारी होती थी, वहीं अब सारे विभाग और मंत्रालय चाहे वो स्वच्छता-मंत्रालय हो, आयुष-मंत्रालय हो, Ministry of Chemicals and Fertilizers हो, उपभोक्ता -मंत्रालय हो या महिला एवं बाल विकास मंत्रालय हो या तो राज्य सरकारें हों - साथ मिलकर स्वस्थ-भारत के लिए काम कर रहे हैं और preventive health के साथ-साथ affordable health के ऊपर ज़ोर दिया जा रहा है | Preventive health-care सबसे सस्ता भी है और सबसे आसान भी है | और हम लोग, preventive health-care के लिए जितना जागरूक होंगें उतना व्यक्ति को भी, परिवार को भी और समाज को भी लाभ होगा | जीवन स्वस्थ हो इसके लिए पहली आवश्यकता है - स्वच्छता | हम सबने एक देश के रूप में बीड़ा उठाया और इसका परिणाम यह आया कि पिछले लगभग 4 सालों में sanitation coverage दोगुना होकर करीब-करीब 80 प्रतिशत (80%) हो चुका है | इसके अलावा, देश-भर में Health Wellness Centres बनाने की दिशा में व्यापक स्तर पर काम हो रहा है | Preventive health-care के रूप में योग ने, नये सिरे से दुनिया-भर में अपनी पहचान बनाई है | योग, fitness और wellness दोनों की गारंटी देता है | यह हम सबके commitment का ही परिणाम है कि योग आज एक mass movement बन चुका है, घर-घर पहुँच चुका है | इस बार के अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून - इसके बीच 100 दिन से भी कम दिन बचे हैं | पिछले तीन अंतर्राष्ट्रीय योग दिवसों पर देश और दुनिया के हर जगह, लोगों ने काफी उत्साह से इसमें भाग लिया | इस बार भी हमें सुनिश्चित करना है कि हम स्वयं योग करें और पूरे परिवार, मित्रों, सभी को, योग के लिए अभी से प्रेरित करें | नए रोचक तरीक़ों से योग को बच्चों में, युवाओं में, senior citizens में - सभी आयु-वर्ग में, पुरुष हो या महिला, हर किसी में popular करना है | वैसे तो देश का TV और electronic media साल-भर योग को लेकर अलग-अलग कार्यक्रम करता ही है, पर क्या अभी से लेकर योग दिवस तक - एक अभियान के रूप में योग के प्रति जागरूकता पैदा कर सकते हैं ?
मेरे प्यारे देशवासियो, मैं योग teacher तो नहीं हूँ | हाँ, मैं योग practitioner जरुर हूँ, लेकिन कुछ लोगों ने अपनी creativity के माध्यम से मुझे योग teacher भी बना दिया है | और मेरे योग करते हुए 3D animated videos बनाए हैं | मैं आप सबके साथ यह video, share करूँगा ताकि हम साथ-साथ आसन, प्राणायाम का अभ्यास कर सकें | Health care accessible हो और affordable भी हो ,जन सामान्य के लिए सस्ता और सुलभ हो - इसके लिए भी व्यापक स्तर पर प्रयास हो रहे हैं | आज देश-भर में 3 हज़ार से अधिक जन-औषधि केंद्र खोले गए हैं जहाँ 800 से ज्यादा दवाइयाँ कम क़ीमत पर उपलब्ध करायी जा रही हैं | और भी नए केंद्र खोले जा रहे हैं | ‘मन की बात’ के श्रोताओं से मेरी अपील है कि ज़रुरतमंदों को इन जन-औषधि केंद्रों की जानकारी पहुचाएँ - उनका बहुत दवाइयों का ख़र्च कम हो जाएगा | उनकी बहुत बड़ी सेवा होगी | हृदय-रोगियों के लिए heart stent की कीमत 85% तक कम कर दी गई है | Knee Implants की क़ीमतों को भी नियंत्रित कर 50 से 70% तक कम कर दिया गया है | ‘आयुष्मान भारत योजना’ के तहत लगभग 10 करोड़ परिवार यानी क़रीब 50 करोड़ नागरिकों को इलाज के लिए 1 साल में 5 लाख रूपए का ख़र्च, भारत सरकार और Insurance company मिलकर के देंगी | देश के मौजूदा 479 medical कॉलेजों में MBBS की सीटों की संख्या बढ़ाकर लगभग 68 हज़ार कर दी गई हैं | देश-भर के लोगों को बेहतर इलाज और स्वास्थ्य-सुविधा मिले इसके लिए विभिन्न राज्यों में नए AIIMS खोले जा रहे हैं | हर 3 ज़िलों के बीच एक नया medical college खोला जाएगा | देश को 2025 तक टी.बी. मुक्त बनाने का लक्ष्य रखा है | यह बहुत बड़ा काम है | जन-जन तक जागृति पहुँचाने में आपकी मदद चाहिए | टी.बी. से मुक्ति पाने के लिए हम सबको सामूहिक प्रयास करना होगा |
   मेरे प्यारे देशवासियो, 14 अप्रैल डॉ० बाबा साहब आम्बेडकर की जन्म-जयंती है | वर्षों पहले डॉ० बाबा साहब आम्बेडकर ने भारत के औद्योगिकीकरण की बात कही थी | उनके लिए उद्योग एक ऐसा प्रभावी-माध्यम था जिसमें ग़रीब-से-ग़रीब व्यक्ति को रोज़गार उपलब्ध कराया जा सकता था | आज जब देश में Make in India का अभियान सफलतापूर्वक चल रहा है तो डॉ० आम्बेडकर जी ने industrial super power के रूप में भारत का जो एक सपना देखा था-उनका ही vision आज हमारे लिए प्रेरणा है | आज भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक bright spot के रूप में उभरा है और आज पूरे विश्व में सबसे ज़्यादा Foreign Direct Investment, FDI भारत में आ रहा है | पूरा विश्व भारत को निवेश innovation और विकास के लिए HUB के रूप में देख रहा है | उद्योगों का विकास शहरों में ही संभव होगा यही सोच थी जिसके कारण डॉ० बाबा साहब आम्बेडकर ने भारत के शहरीकरण, urbanization पर भरोसा किया | उनके इस vision को आगे बढ़ाते हुए आज देश में smart cities mission और urban mission की शुरुआत की गई ताकि देश के बड़े नगरों और छोटे शहरों में हर तरह की सुविधा - चाहे वो अच्छी सड़के हों, पानी की व्यवस्था हो, स्वास्थ्य की सुविधाएँ हो, शिक्षा हो या digital connectivity उपलब्ध कराई जा सके | बाबा साहब का self-reliance, आत्मनिर्भरता में दृढ़ विश्वास था | वे नहीं चाहते थे कि कोई व्यक्ति हमेशा ग़रीबी में अपना जीवन जीता रहे | इसके साथ-साथ वे यह भी मानते थे कि ग़रीबों में सिर्फ़ कुछ बाँट देने से उनकी ग़रीबी दूर नहीं की जा सकती | आज मुद्रा योजना, Start Up India, Stand Up India initiatives हमारे युवा innovators, युवा entrepreneurs को जन्म दे रही है | 1930 और 1940 के दशक में जब भारत में सिर्फ सड़कों और रेलवे की बात होती थी उस समय, बाबा साहब आम्बेडकर ने बंदरगाहों और जलमार्गों के बारे में बात की थी | ये डॉ० बाबा साहब ही थे जिन्होंने जल-शक्ति को राष्ट्र-शक्ति के रूप में देखा | देश के विकास के लिए पानी के उपयोग पर बल दिया | विभिन्न river valley authorities,जल से संबंधित अलग-अलग commissions- ये सब बाबा साहब आम्बेडकर का ही तो vision था | आज देश में जलमार्ग और बंदरगाहों के लिए ऐतिहासिक प्रयास हो रहे हैं | भारत के अलग-अलग समुद्र-तटों पर नए बंदरगाह बन रहे हैं और पुराने बंदरगाहों पर infrastructure को मज़बूत किया जा रहा है | 40 के दशक के कालखंड में ज़्यादातर चर्चा 2nd World War, emerging Cold-War और विभाजन को लेकर के हुआ करती थी - उस समय डॉ० आम्बेडकर ने एक तरह से team India की spirit की नींव रख दी थी | उन्होंने federalism, संघीय-व्यवस्था के महत्व पर बात की और देश के उत्थान के लिए केंद्र और राज्यों के साथ मिलकर काम करने पर बल दिया | आज हम ने शासन के हर पहलू में सहकारी संघवाद, co-operative federalism और उससे आगे बढ़ करके competitive cooperative federalism के मन्त्र को अपनाया है और सबसे महत्वपूर्ण बात कि डॉ० बाबा साहब आम्बेडकर  पिछड़े वर्ग से जुड़े मुझ जैसे करोड़ों लोगों के लिए एक प्रेरणा हैं | उन्होंने हमें दिखाया है कि आगे बढ़ने के लिए यह ज़रुरी नहीं है कि बड़े या किसी अमीर परिवार में ही जन्म हो बल्कि भारत में ग़रीब परिवारों में जन्म लेने वाले लोग भी अपने सपने देख सकते हैं, उन सपनों को पूरा करने का प्रयास कर सकते हैं और सफलता भी प्राप्त कर सकते हैं | हाँ, ऐसा भी हुआ जब बहुत से लोगों ने डॉ० बाबा साहब आम्बेडकर का मज़ाक उड़ाया | उन्हें पीछे करने की कोशिश की | हर संभव-प्रयास किया कि ग़रीब और पिछड़े परिवार का बेटा आगे न बढ़ पाए, कुछ बन न पाए, जीवन में कुछ हासिल न कर पाए | लेकिन, New India की तस्वीर बिलकुल अलग है | एक ऐसा India जो आम्बेडकर का है, ग़रीबों का है, पिछड़ों का है | डॉ० आम्बेडकर की जन्म जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल से 5 मई तक ‘ग्राम-स्वराज अभियान’ आयोजित किया जा रहा है | इसके तहत पूरे भारत में ग्राम-विकास, ग़रीब-कल्याण और सामाजिक-न्याय पर अलग-अलग कार्यक्रम होंगे | मेरा, आप सभी से आग्रह है कि इस अभियान में बढ़-चढ़ करके हिस्सा लें |
    मेरे प्यारे देशवासियो, अगले कुछ दिनों में कई त्योहार आने वाले हैं | भगवान महावीर जयंती, हनुमान जयंती, ईस्टर, वैसाखी | भगवान महावीर की जयंती का दिन उनके त्याग और तपस्या को याद करने का दिन है | अहिंसा के संदेशवाहक भगवान महावीर जी का जीवन,दर्शन हम सभी के लिए प्रेरणा देगी | समस्त देशवासियों को महावीर जयंती की शुभकामनाएँ | ईस्टर की चर्चा आते ही प्रभु ईसा मसीह के प्रेरणादायक उपदेश याद आते हैं जिन्होंने सदा ही मानवता को शांति, सद्भाव, न्याय, दया और करुणा का सन्देश दिया है | अप्रैल में पंजाब और पश्चिम भारत में वैसाखी का उत्सव मनाया जाएगा, तो उन्हीं दिनों, बिहार में जुड़शीतल एवं सतुवाईन , असम में बिहू तो पश्चिम बंगाल में पोइला वैसाख का हर्ष और उल्लास छाया रहेगा | ये सारे पर्व किसी-न-किसी रूप में हमारे खेत-खलिहानों और अन्नदाताओं से जुड़े हुए हैं | इन त्योहारों के माध्यम से हम उपज के रूप में मिलने वाले अनमोल उपहारों के लिए प्रकृति का धन्यवाद करते हैं | एक बार फिर आप सब को आने वाले सभी त्योहारों की ढ़ेरों शुभकामनाएँ | बहुत-बहुत धन्यवाद |                      
******